लंकापति रावण की पत्नी की 6 विचित्र बाते, जान रह जाओगे आप भी हैरान !

Ravana ke ansune rahasya, rochak jankari, rochak kahaniya, ravan ka itihas, rochak kahaniyan rawan ki, rawan ki rochak kahaniyan, ramayan ki ansuni kahaniyan, free ramayana story in hindi, ramayan ki kahani hindi me, valmiki ramayan ki kahaniya, रामायण की अनसुनी कहानियां, रामायण की रहस्यमय कहानियां, अनसुनी कहानिया रामायण की

मंदोदरी के रहस्य, रामायण के अनसुने रहस्य, रावण के अनसुने रहस्य, ravan ke rahasya, rochak jankari, rochak kahaniya, ravan ka itihas, rochak kahaniyan rawan ki, rawan ki rochak kahaniyan, ramayan ki ansuni kahaniyan, free ramayana story in hindi, ramayan ki kahani hindi me, valmiki ramayan ki kahaniya, रामायण की अनसुनी कहानियां, रामायण की रहस्यमय कहानियां, अनसुनी कहानिया रामायण की

लंकापति रावण ( lankapati ravana ) की सभी बाते उसकी बुराई तथा उसकी अच्छाई इन सभी को तो हम बचपन से ही सुनते आ रहे है. परन्तु शायद ही आप रावण  ( Ravana ) की पत्नी मन्दोदरी ( Mandodari ) के सम्बन्ध में यह बात जानते होंगे जो आज हम आपको बताने जा रहे है क्योकि यह न पहले किसी ने आपको बताई होगी और न ही आपने किसी से सुनी होगी.

मंदोदरी ( Mandodari ) के बारे में पुराणों में जो बाते बताई गयी है उसके अनुसार वह पहले हेमा नाम की एक अप्सरा की बेटी थी. एक बार स्वर्गलोक में जब देवराज इंद्र की सभा लगी हुई थी उस सभा में ऋषि कश्यप के पुत्र वहां उपस्थित अप्सरा माया को देखकर मोहित हो गए.

माया ने हेमा के समाने विवाह का प्रस्ताव रखा. विवाह के बाद हेमा ने मायासुर की एक पुत्री मन्दोदरी को जन्म दिया. अप्सरा की पुत्री होने के कारण मन्दोदरी भी अपनी माँ के समान सुन्दर एवम आकर्षक थी.

जब मन्दोदरी ( Mandodari )  विवाह के योग्य हो गई तो अपनी पुत्री के साथ विवाह के लिये मयासुर एक सुयोग्य वर ढूढने लगे. उस समय त्रिलोक विजेता लंकापति रावण का हर तरफ प्रभाव था अतः मायासुर को अपनी पुत्री के लिए रावण सुयोग्य वर लगा.

मायासुर अपनी पुत्री के विवाह का प्रस्ताव लेकर रावण के पास गए. मायासुर ने मंदोदरी ( Mandodari ) को रावण से म‌िलाया और बताया क‌ि यह उनकी द‌िव्य कन्या है. हेमा अप्सरा इनकी माता है.