भगवान शिव के साक्षात् इस चमत्कार से आप भी हो जाएंगे हैरान, एक अनोखा करिश्मा !

bhagvan shiv ke chamatkar, shivji ke chamatkari mandir, rahashyamai mandir, shiv ji ke rahashyamayi mandir,adbhut mandir, chamatkari mandir, duniya ke adbhut rahasya, bharat ke prasidh mandir, duniya ke adbhut rahasya, bharat ke prasidh mandir, chamatkari mandir, रहस्यमयी मंदिर, शिव जी के रहस्यमयी मंदिर, भारत के रहस्यमयी और चमत्कारी मंदिर,

शिव के चमत्कार,शिव की महिमा ,शिव की लीला ,शिव की कृपा ,shiv ke chamatkar,shiv ki mahima ,shiv ki leela,shiv ki kripa

हिन्दू मंदिरों में एक से बढ़ कर एक चमत्कार देखने को मिल जाते है. जिनको विज्ञान भी कभी नही खोज पाया कि, इन चमत्कारिक घटनाओ के पीछे क्या कारण विद्यमान है.

लेकिन श्रद्धा तो मात्र अपने अराध्य के प्रति समर्पण सिखाती है यही भक्ति का चरम है.

उड़ीसा का नाम सुनते ही हिन्दू धर्म के चार प्रमुख धाम में से एक जगन्नाथ व आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा स्थापित चार शंकराचार्य पीठो में से एक गोवर्धन या पूरी पीठ का स्मरण होता है. लेकिन उड़ीसा में कई और भी प्रसिद्ध मंदिर है.

जिनमें से एक है टिटलागढ की पहाड़ियों में स्थित शिव मंदिर. मई, जून के महीनों में भयानक गर्मी से पूरा भारत बेहाल होता है, उस दौरान यह शिव मंदिर प्राकृतिक रूप से बाहर के मोसम के विपरीत ठंडा रहता है.

जैंसें-जैंसे गर्मियां बढ़ती जाती वहीं मंदिर के भीतर ठंडक का स्तर बढ़ने लगता है. मंदिर के बाहर की चिलचिलाती गर्मी से जैसे ही आप मंदिर के भीतर प्रवेश करेंगे तो आपको एसी जैसी कूलिंग का अनुभव होगा, जबकि यहां कोई एसी या कूलर नहीं लगा है.

बाहर जितनी गर्मी होती है मंदिर भीतर से उतना ठंडा होता रहता है. उड़ीसा के बोलांगिर जिला का एक नगर टिटलागढ़ (तितिलागढ़ भी कहते हैं) है, जो भुवनेश्वर विशाखापतनम और विशाखापतनम रायपुर रेलवे मार्ग से जुङा हैं. टिटलागढ को भारत के सबसे गर्म स्थानों में गिना जाता है.