दुनिया के सबसे पहले कावड़ी, जिन्होंने किया था सर्वप्रथम शिवलिंग पर जलाभिषेक !

kon tha pehla kawadiya, kawad ki kahani, kawad yatra, kawad yatra history, first kawad yatri, कांवड़ की कहानी, कांवड़ यात्रा का महत्व

kon tha pehla kawadiya, kawad ki kahani, kawad yatra, kawad yatra history, first kawad yatri, कांवड़ की कहानी, कांवड़ यात्रा का महत्व

कौन था पहला कावड़िया किसने किया था सबसे पहले शिव लिंग का जल अभिषेक : –

श्रावण का महीना आते ही हर कोई शिव की भक्ति में झूमने लगता है. इस पावन त्यौहार में पुरे उत्तर भारत और अन्य राज्यो से कावड़िये शिव के पवित्र धामो में जाते है तथा वहां से गंगाजल लाकर शिव का जलाभिषेक करते है.

कावड़ियो को नंगे पैर बहुत दूर चलकर गंगा जल लाना होता है तथा शर्त यह होती है की कावड़ी, शिव कावड़ को जमीन में नही रखता. इस प्रकार शिव भक्त अनेक कठिनाइयों का समाना करके गंगा जल लाते है तथा उससे शिव का जलाभिषेक करते है.

परन्तु क्या आपने कभी यह सोचा है की आखिर वह कौन पहला व्यक्ति होगा जो सबसे पहला कावड़ी था तथा जिसने सबसे पहले भगवान शिव का जलाभिषेक कर उनकी कृपा प्राप्त करी व इस परम्परा का आरम्भ हुआ.

पुराणों में बताया गया है की परशुराम ही सबसे पहले व्यक्ति थे जो महादेव शिव की कावड़ लाये तथा उन्होंने शिव पर सर्वप्रथम जलाभिषेक किया.

शास्त्रो की कथा के अनुसार परशुराम के पिता ऋषि जमदग्नि अपनी पत्नी रेणुका के साथ वन में रहते थे. उनका स्वभाव बहुत ही सरल एवम शांत था वह उनके आश्रम में पधारने वाले अतिथियों की बड़े आदर एवम सत्कार भाव से सेवा किया करते थे.

एक बार बहुत ही शक्तिशाली एवम प्रतापी राजा सहस्त्रबाहु उस वन में अपने कुछ सेनिको के साथ आखेट करते हुए पहुचा. बहुत अधिक थक जाने पर उन्होंने ऋषि जमदग्नि के आश्रम में शरण लेने की सोची.