kis disha me sona chahiye in hindi | किस तरफ पैर करके सोना चाहिए

kis disha me sona chahiye in hindi, kis disha me sona chahiye, किस दिशा में पढ़ना चाहिए, दिशा सूचक, दिशा ज्ञान, दिशा की जानकारी, दिशा व उपदिशा, दिशा सामान्य ज्ञान, sone ki disha in vastu, sone ki disha, sone ki disha vastu in hindi, vastu shastra sone ki disha

kis disha me sona chahiye, किस दिशा में पढ़ना चाहिए, दिशा सूचक, दिशा ज्ञान, दिशा की जानकारी, दिशा व उपदिशा, दिशा सामान्य ज्ञान, sone ki disha in vastu, sone ki disha, sone ki disha vastu in hindi, vastu shastra sone ki disha

kis disha me sona chahiye in hindi | किस तरफ पैर करके सोना चाहिए

आपने बड़े बुज़ुर्गों को यह kis disha me sona chahiye कहते हुए सुना होगा कि आपको उत्तर दिशा की ओर मुंह करके नहीं सोना चाहिए. क्या आपने कभी सोचा है कि आपको उत्तर दिशा की ओर मुंह करके क्यों नहीं सोना चाहिए? आज इस आर्टिकल में हम यह बात करेंगे कि आपको ऐसा kis disha me sona chahiye in hindi क्यों नहीं करना चाहिए.

ऐसा माना जाता है कि अगर आप उत्तर दिशा की तरफ मुंह करके सोते हैं तो आपको बुरे सपने आते हैं जो आपकी मानसिक स्थिति को बिगाड़ देता है. उत्तर दिशा की तरफ सोने पर शरीर से सकारात्मक ऊर्जा जाती है. यह एक कारण है कि प्राचीन धारणा ऐसा क्यों कहती है कि आपको kis disha me sona chahiye in hindi उत्तर दिशा की तरफ नहीं सोना चाहिए.

विज्ञान के अनुसार, अगर हम उत्तर दिशा की तरफ सोते हैं kis disha me sona chahiye in hindi तो यह रक्त के प्रवाह पर असर डालता है और हमें सही नींद नहीं मिलती. ऊर्जा का स्तर भी गिर जाता है. हालांकि, हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान गणेश को कटे हुए जानवर का सर उत्तर दिशा से उठा कर दिया गया था.

kis disha me sona chahiye in hindi

यह एक कारण बन गया कि लोग यह सोचने लगे कि उत्तर दिशा की तरफ सोना सही नहीं है. तो चलिए हम भगवान गणेश की कहानी पढ़ें जो इस बात को दर्शाता है कि हिन्दू प्रथा के kis disha me sona chahiye अनुसार उत्तर दिशा में सोना गलत क्यों है.

यह कहा जाता है कि जब देवी पार्वती स्नान करने गयीं तो उन्होंने भगवान गणेश को द्वार पर खड़े रह निगरानी करने को कहा और किसी को अंदर न आने देने का निर्देश दिया. kis disha me sona chahiye जब शिव भगवान पार्वती जी से मिलने आये और भगवान गणेश से अंदर जाने देने को कहा.

पर गणेश आज्ञाकारी पुत्र थे और यह जानते हुए भी कि वह देवी पार्वती के पति हैं, उन्होंने शिव को अंदर जाने नहीं दिया.

दोनों में काफी बहस चलती है गणेश जी शिव जी को अंदर जाने से रोकते है कुछ समय पश्चात जब गणेश जी नहीं मानते और शिव जी अपना आपा खो देते है और गणेश जी का सीर धड़ से अलग कर देते है और बाद में जब देवी पारवती को यह पता चलता है तो वो क्रोधित हो सृष्टि का विनाश करने पर उतारू हो जाती है

ब्रह्मा जी ने उन्हें शांत किया और बाद में पार्वती kis disha me sona chahiye को खुश करने के लिए शिव जी ने अपने गणों को निर्देश दिया कि ऐसे जानवर का सर लाओ जो उत्तर दिशा में मुंह कर सो रहा हो.

भगवान शिव के निर्देश के अनुसार, सेवक ऐसे जानवर को ढूंढने निकले जो उत्तर दिशा की ओर मुंह कर सो रहे थे.

भगवान शिव के सेवकों को एक हाथी दिखा जो उत्तर दिशा की ओर मुंह कर सो रहा था. उन्होंने उस हाथी का सर धार से अलग कर दिया और भगवान शिव को देने चले .kis disha me sona chahiye

भगवान शिव ने तब भगवान गणेश के धड़ पर हाथी का सर लगा कर उन्हें जीवन प्रदान किया. और बाद में भगवान गणेश को सब पूजने लगे क्यूंकि भगवान शिव ने पार्वती जी को यह वचन दिया कि पुत्र गणेश की पूजा लोग पहले करेंगे.

इसलिए, हिन्दू मान्यता के अनुसार सबसे उत्तम सोने की मुद्रा है बायीं ओर को होकर पूरब या पश्चिम दिशा में सोना. यह रक्त का प्रवाह बढ़ाता है और आपके समस्त खैरियत का ध्यान रखता है. kis disha me sona chahiye in hindi