महादेव शिव के दो पुत्रो के आलावा थी पांच पुत्रिया भी, इस कथा को शायद ही पहले सूना हो आपने !

bhagwan shiv ki katha in hindi, lord shiva sons story, daughters of shiva, lord shiva son kartikeya, bhagwan shiv ki putri ka naam, शंकर भगवान के पिता का नाम, शिव का जन्म कैसे हुआ, भगवान शिव के नाम, भगवान शिव के अवतार

bhagwan shiv ki katha in hindi

कैलाश निवासी महादेव शिव इस सभी जगत को चला रहे है तथा वे जगत पिता है. इस बात से तो सभी भली भाति परिचित है की महादेव शिव एवम माता पार्वती के 2 पुत्र थे जिनमे प्रथम पुत्र थे कार्तिकेय तथा दूसरे पुत्र थे गणेश जी.

परन्तु शायद ही आप इस बात से परिचित होंगे की इसके साथ ही महादेव शिव की पांच पुत्रिया भी थी. भगवान शिव की पांच पुत्रियों से जुडी कथा बेहद रोचक है आइये जानते है भगवान शिव की पांच पुत्रियों की कथा तथा उनका परिचय .

एक समय की बात है महादेव देवी पार्वती के साथ एक सरोवार में जल क्रीड़ा कर रहे थे, उसी दौरान महादेव शिव का का तेज पास ही नदी के किनारे गिर पड़ा भगवान शिव ने उसे उठा कर एक पत्ते में रख दिया तथा माता पार्वती के साथ वे वापस कैलाश की तरफ चल दिए.

भगवान शिव के उस तेज से पांच कन्याओ का जन्म हुआ परन्तु ये कन्याए मनुष्य के रूप में न होकर सर्प के रूप में थी. माता पार्वती को इस बात की बिलकुल भी जानकारी नहीं थी परन्तु महादेव शिव इस बात को भली प्रकार जानते थे की उनके तेज से पांच नाग कन्याओ का जन्म हुआ है.

इसलिए पुत्री के मोह में भगवान शिव हर दिन उस सरोवर में जाने लगे तथा अपनी पुत्रियों के साथ क्रीड़ा करने लगे.