आज की शाम घर के दरवाजे पर एक नमक की पुड़िया, कल सुबह देखे कमाल

सनातन संस्कृति के महर्षियों अनुसार जिस घर में खड़ा नमक बंधा होता है उस घर में बरकत भी खड़ी रहती है। भारत के कई राज्यों में आज भी यह परंपरा है कि अपनी बेटी के विवाह के समय विदाई करते समय बेटी को खड़े साबुत नमक की थैली अवश्य दी जाती है।

नमक का हमारे दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है। नमक रहित भोजन अच्छे से अच्छे भोजन को बेस्वाद कर देता है। बड़े-बुजुर्ग मानते हैं की घर में नमक से ही बरकत आती है और सुख-समृद्धि का वास होता है। नमक का गिरना अच्छा नहीं माना जाता। इससे घर में अपशगुन होने के संकेत मिलते हैं।