शरीर के इस अंग पर आज ही बांधे नीला धागा, हो जायेंगे आपके वारे न्यारे !!

हिंदू धर्म ग्रंथों में शनिदेव को न्यायाधीश कहा गया है अर्थात मनुष्य के अच्छे-बुरे कर्मों का फल देना शनिदेव का काम है। प्राचीन काल से ही कहा जाता है शनिदेव ने अपने गुस्से के चलते कई राक्षसों को और दुस्ट प्रवृति वाले मनुष्यों को नष्ट कर दिया था और कर देते हैं।

ये शक्तियां शनिदेव को ब्रह्मा, विष्णु और शिव से प्राप्त हुई थी। अच्छे-बुरे कर्मों का फल देने वाले शनिदेव की मनुष्य पर टेड़ी नजर पड़ जाए तो मनुष्य थोड़े ही समय में राजा से रंक बन जाता है।

शनिदेव क्रोधित स्वभाव और गलती की सजा देने वाले देवता माने जाते है। साथ ही हिन्दू शास्त्र में शनिदेव को भाग्य संवारने और बिगाड़ने वाला माना गया है।