गणेश पूजा में भूलकर भी न करें ये 5 गलतियां वरना. .. ऐसे ना चढ़ाये दूर्वा

गणेशजी को विघ्नकर्ता और विघ्नहर्ता दोनों कहा जाता है। गणेशजी के नाराज होने पर हर काम में अमंगल होता है। इसलिए गणेश जी पूजा में कुछ बातों के ध्यान रखना बहुत जरूरी है ताकि गणेश जी नाराज नहीं हो। पुराणों में गणेशजी की पूजा में कुछ चीजों को वर्जित बताया गया है। इनका प्रयोग करने से गणेशजी अप्रसन्न होते हैं।

तुलसी- गणेश पुराण में कथा है कि देवी तुलसी भगवान गणेश को तपस्या में लीन देखकर उन पर मोहित हो गईं और विवाह का प्रस्ताव दे दिया। लेकिन गणेश जी ने यह कहकर विवाह से इंकार कर दिया है कि वह आजीवन ब्रह्मचारी रहेंगे। देवी तुलसी ने गणेश जी को क्रोधित होकर शाप दे दिया कि आपको विवाह करना होगा, आप ब्रह्मचारी नहीं रह पाएंगे। गणेशजी ने भी आवेश में आकर तुलसी को शाप दे दिया कि आपका पति एक असुर होगा। इस कारण से तुलसी का विवाह जलंधर नाम के असुर से हुआ और तुलसी गणेशजी पूजा में वर्जित हो गई।

टूटे और सूखे चावल- अटूट चावल को अक्षत कहा जाता है। गणेश जी को जल से गीला करके अक्षत अर्पित करना चाहिए। गणेशजी का एक दांत टूटा हुआ हैं इससे गीला चावल होने पर उन्हें स्वीकार करना गणेश के लिए सहज होता है। टूटे चावल को अशुद्ध माना जाता है और सूखा चावल होने पर कठोरता के कारण गणेशजी उसे स्वीकार नहीं करते हैं।

सफेद फूल- गणेश जी के लाल फूल प्रिय है। गणेश पुराण में जिक्र किया गया है कि गणेशजी की पूजा लाल फूल से करनी चाहिए। गणेशजी ऊर्जा और उत्साह के प्रतीक हैं इसलिए इनकी पूजा में उत्साहवर्धक रंग लाल फूल और सिंदूर का प्रयोग किया जाता है। सफेद पुष्प का संबंध चन्द्रमा से होने के कारण गणेशजी को नहीं चढ़ता। गणेशजी को देखकर चन्द्रमा ने उनका उपहास किया था। इसके लिए गणेश जी ने चन्द्रमा को शाप दिया और उनसे संबंधित चीजों को अपनी पूजा में वर्जित कर दिया।

ये चीजें भी हैं वर्जित- गणेश जी की पूजा में सफेद वस्त्र, सफेद जनेऊ और सफेद चंदन का प्रयोग भी नहीं करना चाहिए। लाल और पीले रंग के इन चीजों के प्रयोग करें।


loading...
loading...