घर में खूब होगी बरकत बस सुबह उठते ही बोले ये 1 मन्त्र

व्यक्ति को सुबह सूर्योदय से पहले उठ जाना चाहिए. इससे मनुष्य में सकारात्मक उर्जा का संचार होता है और उसका पूरा दिन अच्छे से बीतता है. हमारे शास्त्र हमें संतुलित जीवन जीना सिखाते हैं. इसी क्रम में शास्त्रों ने संस्कार रचकर हमारी दिनचर्या तय की है.

हमारे शास्त्रों और आयुर्वेद में नित्य स्नान के बहुत से फायदे बताए गए हैं. शास्त्रों में कुछ ऐसे कार्य बताये गए है जिनको सुबह उठाकर करने से दिन शुभ होता है. धर्म के नजरिये से अगर मनुष्य सूर्योदय से पहले स्नान करता है तो यह बहुत शुभ होता है. सूर्योदय के बाद और सूर्यास्त से पहले किये गये उपायों से दुर्भाग्य सौभाग्य में बदलता है. दोस्तों चमत्कारी मन्त्र निचे वीडियो में दिया गया है .

शास्त्रानुसार हर व्यक्ति को सुबह सूर्योदय से पहले जागना चाहिए। हमारे शास्त्र हमें संतुलित जीवन जीना सिखाते हैं। इसी क्रम में शास्त्रों ने संस्कार रचकर हमारी दिनचर्या तय की है। हमारी दिनचर्या नींद से उठते ही प्रारंभ होती है। सुबह अच्छी हो तो पूरा दिन अच्छा गुजरता है। दिन अच्छा हो इसके लिए हम सुबह अपने अंदर और बाहर अर्थात मन में और घर में शांति और प्रसन्नता चाहते हैं। इस लेख के माध्यम से हम अपने पाठकों को बताने जा रहे हैं कि सुबह उठते ही क्या करें ऐसा खास जिससे बन जाएं आपके सारे बिगड़े काम।

दिन शुभ हो इसके लिए हमारे ऋषि-मुनियों ने कर (हाथ) दर्शन का संस्कार हमें दिया है अर्थात हथेलियों को देखना। सुबह उठते ही हमें कर दर्शन अर्थात अपनी हथेलियों के ही दर्शन करना चाहिए। शास्त्रानुसार हाथ के अग्र भाग में लक्ष्मी का, मध्य भाग में सरस्वती का तथा मूल भाग में परमब्रह्म गोविंद का निवास होता है।

अतः सुबह हथेलियों के दर्शन करने के लिए हथेलियों को आपस में मिलाकर पुस्तक की तरह खोल लें और यह श्लोक पढ़ते हुए हथेलियों का दर्शन करें।
श्लोक: कराग्रे वसते लक्ष्मी करमध्ये सरस्वती। करमूले तु गोविंद प्रभाते करदर्शनम्॥

व्यक्ति को नींद से उठने के बाद दूसरा काम करना चाहिए भूमि वंदन। हम इस धरती पर अपना बोझ डालते हैं, इस पर पांव रखते हैं। यही भूमि हमें अन्न, जल व आश्रय प्रदान करती है। भूमि से ही मनुष्य को अनेक खाद्य प्रदार्थ मिलते हैं। मकान बनाने, खेती करने और स्टोरेज बनाने के लिए हमें धरती को खोदना पड़ता है।

उस समय होने वाले सब आघात भूमि सहन करती है। सभी का बोझ यह भूमि संभालती है इसलिए प्रात: उठने पर भूमि पर पैर रखने से पूर्व निम्नलिखित श्लोक बोलें।

श्लोक: समुद्रवसने देवि पर्वतस्तनमण्डले। विष्णुपत्नि नमस्तुभ्यं पादस्पर्शं क्षमस्व मे॥

नींद से उठने के बाद व्यक्ति को तीसरा काम करना चाहिए माता-पिता के दर्शन। माता-पिता ही हमारे सच्चे भगवान और यह ही हमारे मूल-शक्ति का स्रोत हैं। इनके दर्शन और चरण स्पर्श से हम में सकारात्मक ऊर्जा का निर्वाह होता है।

दैनिक कृत्यों से विवृत होने के बाद चौथा काम व्यक्ति के लिए है इष्ट की मंत्र योग साधना। इष्ट योग साधना व्यक्ति के चारों ओर सुरक्षा कवच का निर्माण कर व्यक्ति की सहयता करती है।

पांचवा कार्य व्यक्ति के लिए है आदि देवदर्शन अर्थात गणपति जी के दर्शन। गणपति के दर्शनों से सभी प्रकार के दैनिक संकटो व विघ्नों का नाश होता है। सुबह सवेरे नाश्ता करने से पहले पांचवा कार्य करें दान कर्म अर्थात किसी ज़रूरतमंद को पैसे अथवा भोजन का दान करें अथवा घर में तवे पर बनी पहली रोटी गाय को खिलाएं। इन पंच कर्मो से व्यक्ति की सभी बाधाएं दूर होती हैं तथा उसके सारे बिगड़े काम संवर जाते हैं।