नवरात्री में 7 इलायची घर आएगा पैसा ही पैसा

देवी मंडपों में शुक्रवार को ब्रह्मचारिणी देवी की आराधना होगी। यह ब्रह्मांड की देवी हैं। विद्या प्रदात्री हैं। यदि आप किसी प्रतियोगी परीक्षा में बैठ रहे हैं, किसी नौकरी की तलाश में हैं, कैरियर को बनाने और संवारने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन सफलता नहीं मिल रही तो चिंता न करें। ब्रह्मचारिणी देवी आपकी हर इच्छा को पूरी करेंगी। जाप के साथ ही आपको एक छोटा सा उपाय बता रहे हैं। इसको करने से भगवती ने चाहा तो आपको आशीर्वाद मिलेगा। आप जो करना चाहते हैं और जो बनने की इच्छा है, वह पूरी होगी

क्या करें
-पांच इलायची, पांच कमलगट्टे और पांच हल्दी की गांठ लें
-किसी कटोरी या डिब्बी में रखकर मां सरस्वती का ध्यान रखते हुए पूजा स्थल पर रख दें
-इसको तब तक रखें जब तक मनोकामना पूरी न हो जाए। भगवती जल्द ही आपकी इच्छा पूरी करेंगी।
-मां भगवती को खीर का भोग लगाएं

यह करें जाप
ऊं ऐं ऊं ( रुद्राक्ष की एक माला करें)
श्री दुर्गा सप्तशती पाठ
पांचवां अध्याय पढ़ें ( छात्र-छात्राएं, नौकरीपेशा)
अगली स्लाइड में पढ़ें शनिवार को क्या करना चाहिए उपाय

2/2शनिवार को मां चंद्रघंटा को चढ़ाएं किसमिस

कला-संस्कृति-साहित्यिक प्रेमियों के लिए नवरात्र का तीसरा दिन विशेष महत्व रखता है। चंद्रघंटा देवी स्वर, नाद, साहित्य, कला की अधिष्ठात्री हैं। वह युद्ध कौशल की भी देवी हैं। वह शीतलता धारण करती हैं। चंद्रघंटा देवी की शरण में जाने से मानसिक शांति प्राप्त होती है। यदि आप डिप्रेशन में हैं, संत्रास में हैं, मन विचलित रहता है, किसी काम को करने में मन नहीं करता, आप कला, साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में नाम कमाना चाहते हैं, परिश्रम करते हैं लेकिन समुचित फल प्राप्त नहीं होते तो चंद्रघंटा देवी की आराधना करिए। एक उपाय से आपकी बहुत सी समस्याओं का अंत हो सकता है

यह करें उपाय

-यदि मानसिक रूप से परेशान हैं तो गाय को हरी घास खिलाएं या केले
-चंद्रघंटा देवी को किशमिश और खीर का भोग लगाएं। ( मानसिक शांति भी मिलेगी और मनचाहा मुकाम भी)
-देवी भगवती की अग्यारी में एक जोड़ा लोंग ( इससे अधिक न हो) माथे पर लगाकर अर्पण कर दें
-देवी मंदिर में जाकर सात या तीन परिक्रमा करें।

जाप ( एक माला या 11 बार)
या देवि सर्वभूतेषु शांति रूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

( मानसिक शांति के लिए पढ़ें)
सफलता के लिए मंत्र
ऊं दुं दुर्गायै नम:


loading...
loading...