मुंहमांगी इच्छा तुरंत पूरी करेंगे शिव यदि छोड़ दी ये 2 चीज़

भगवान शिव अपने भक्तों पर शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं इसलिए उन्हें भोलेनाथ कहा जाता है। भोलेनाथ को एक लोटा जल अर्पित करके भी प्रसन्न किया जा सकता है। शास्त्रों में भी बताया गया है कि भगवान शिव की लिंग स्वरूप में पूजा करने से भोलानाथ शीघ्र प्रसन्न होते हैं अौर भक्तों को मनचाहा वर देते हैं।

जिस पर भोलेनाथ की कृपा हो जाती है उसे सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती है। इसके साथ ही रोग अौर कुंडली के दोष भी दूर होते हैं। आइए जाने भोलेनाथ को प्रसन्न करने के कुछ सरल उपाय-

* कुंडली में शनि दोष होने पर शिवलिंग पर काले तिल मिलाकर जल अर्पित करने से राहत मिलती है।

* कुंडली के मंगल दोष को शांत करने के लिए पके हुए चावलों से शिवलिंग का श्रृंगार कर भोलेनाथ की पूजा करें।

* इलाज के बाद भी आराम न मिले तो पानी में दूध अौर काले तिल मिलाकर शिवलिंग पर अर्पित करने से सभी रोगों से मुक्ति मिलती है।

* भगवान शिव पर जलाभिषेक करने के बाद दोनों हथेलियों से शिवलिंग को रगड़ें। ऐसा करने से हर किसी का भाग्य बदल सकता है।

* गाड़ी नहीं है तो प्रतिदिन शिवलिंग पर चमेली के फूल अर्पित करके भोलेनाथ के महामंत्र ऊँ नम: शिवाय का 108 बार जाप करें।

* हर मनोकामना पूर्ति के लिए किसी सुनसान स्थान पर स्थित शिव मंदिर पर दीपक प्रज्वलित करें।

* बिल्वपत्रों पर चंदन से ऊँ नम: शिवाय लिखकर इन पत्तों की माला बनाकर शिवलिंग पर चढ़ाए। माला बनाते समय इस बात का ध्यान रखें कि पत्ते कटे-फटे नहीं होने चाहिए।

* कच्चे दूध में शक्कर मिलाकर तांबे के लोटे से शिवलिंग पर अर्पित करने से मां सरस्वती का आशीर्वाद मिलता है अौर ज्ञान में बढ़ौतरी होती है।

* विवाह या वैवाहिक जीवन से संबंधित समस्याअों से छुटकारा पाने के लिए केसर मिश्रित जल से शिवलिंग का जलाभिषेक करें।

* शिवलिंग पर दुर्वा अर्पित करने से लंबी उम्र की प्राप्ति होती है। साथ ही भगवान शिव अौर श्रीगणेश की कृपा प्राप्त होती है।

* घर में सदैव लक्ष्मी का वास रहे इसके लिए शिवलिंग पर चावल अर्पित करने चाहिए। इस बात का ध्यान रखें कि चावल खंडित न हो। ऐसा करने से भगवान शिव के साथ माता लक्ष्मी की भी कृपा प्राप्त होती है।

* प्रतिदिन शिवलिंग पर धतूरा अर्पित करने से संतान से संबंधित समस्याएं दूर होती हैं। इससे संतान के कार्यों में भी सफलता मिलती है।