आज की रात है ख़ास ये एक उपाय साक्षात् माँ लक्ष्मी आएगी घर

5 अक्टूबर यानी आज शरद पूर्णिमा मनाई जा रही है । खगोलीय दृष्टि से देखें तो इस रात को चंद्रमा अपनी पूरी सोलह कलाओं का प्रदर्शन करते हुए आसमान में चमकता है ।

इस दिन को कोजागरी या कोजागर पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है । इस दिन को लेकर धार्मिक मान्यता है कि मां लक्ष्‍मी रात में स्‍वयं पृथ्‍वी लोक पर विचरण करती हैं और जो भी व्‍यक्ति उन्‍हें पूजा में लीन, ध्‍यान में मग्‍न दिखता है उस पर उनकी विशेष कृपा होती है ।

शरद पूर्णिमा की रात को कुछ विशेष उपाय करने से मां लक्ष्‍मी की विशेष कृपा की प्राप्ति होती है, और आकस्मिक धन लाभ होता है ।

इस रात माता की आराधना का समय रात्रि का वो पहर है जब चारों ओर चांदनी रात बिखरी होती है । चांद की रोशनी में मानों तारें शोर कर रहे होते हैं । इस समय माता लक्ष्‍मी की आराधना करने वाले पर देवी स्‍वयं कृपा बरसाती है ।

शरद पूर्णिमा की रात मां लक्ष्मी को पूजा के दौरान सुपारी चढ़ाएं । जब पूजा पूरी हो जाए तो सुपारी को धागे में लपेटें और उसकी अक्षत, कुमकुम, फूल आदि से पूजा करके उसे तिजोरी में रख दें । ऐसा उपाय करने वाले व्‍यक्ति के घर पर कभी धन की कमी नहीं होती ।

शरद पूर्णिमा की रात भगवान शिव को खीर का भोग लगाने की भी मान्‍यता है । रात को खीर बनाकर एक शुद्ध पात्र में छत पर रखें । शिव को भोग लगाएं और इसके बाद खुद भी परिवार सहित खीर ग्रहण करें ।

इस उपाय को करने से दरिद्रता दूर होती है ।

शरद पूर्णिमा की रात हनुमान जी के समक्ष एक चौमुखा दीपक जलाएं। आपके समस्‍त कष्‍टों का निवारण होगा । आप घी या तेल का दीपक अपनी सामर्थ्‍यानुसार जला सकते हैं । दीपक जलाकर प्रभु से अपने कष्‍टों को हरने की प्रार्थना जरूर करें ।