6 kaaran shigrah mritu ke-इन 6 कारणों से होती मनुष्य की आयु कम तथा शीघ्र ही वह मृत्यु को प्राप्त होता है !

इन 6 कारणों से होती मनुष्य की आयु कम : – 

हर व्यक्ति जन्म के साथ अपनी मौत का समय भी लिखवाकर लाता है ऐसा शास्त्रों और पुराणों में लिखा है. लेकिन पुराणों में यह भी बताया गया है कि व्यक्ति अपने कर्मों से अपनी आयु बढ़ा भी सकता है और घटा भी सकता है.

यानी कर्मों के अनुसार व्यक्ति को आयु का आशीर्वाद भी प्राप्त होता और मृत्यु का शाप पाकर निश्चित उम्र से पहले भी मर सकता है. समय से पहले मृत्यु होने पर व्यक्ति को नया शरीर पाने के लिए भटकता रहता है.

महाभारत के उद्योगपर्व में धृतराष्ट्र महात्मा विदुर से सवाल पूछते हैं कि जब सभी वेदों में मनुष्य को सौ वर्ष की आयु वाला बताया गया है तब वह किस कारण से अपनी पूर्ण आयु को भोग नहीं पाता.

“शतायुरुक्ता पुरूषः सर्ववेदेषु वै यदा. नाप्नोत्यथ च तत् सर्वमायुः केनेह हेतुना”

धृतराष्ट्र के प्रश्नों का जवाब देते हुए विदुर जी वह छह कारण बताते हैं जिससे मनुष्य अपनी पूर्णायु को नहीं भोग पाता है.

विदुर जी कहते हैं मनुष्य की उम्र को काटने वाला पहला तलवार अभिमान है. अभिमानी मनुष्य अपने को सबसे बड़ा मानकर बड़ों का भी अनादर करने लगता है. अपने अभिमानी स्वभाव के कारण वह भगवान का प्रिय नहीं रह जाता और भगवान उसकी उम्र कम कर देते हैं.