Puraano ki 7 bhavishyavaani- पुराणों की 7 भविष्यवाणी, कलयुग में हो रही है सत्य !

भविष्यवाणी, कलयुग में हो रही है सत्य : –

हमारे शास्त्रों में यह वर्णन मिलता है की अनिश्चित भविष्य के साथ ही एक निश्चित अथवा तय भविष्य रेखा भी साथ चलती रहती है यानि की भविष्य में कुछ घटनाओं के संबंध में तो कुछ कहा नहीं जा सकता परन्तु कुछ घटनाएं ऐसी है जिनका भविष्य में घटना निश्चित है.

भविष्य का निर्माण केवल किसी व्यक्ति, समूह या संगठन पर ही निर्भय नहीं होता बल्कि प्रकृति के तत्व भी इसमें अपना योगदान करते है. भविष्य की सम्भावनाएं तो अनन्त होती है परन्तु कुछ सम्भावनाएं के बारे में पुख्ता तोर पर बताया जा सकता है.

यदि आप किसी निचले स्थान पर खड़े हो तो वहां से आप यह अंदाजा नहीं लगा पाएंगे की 10 मिनट बाद आपके क्षेत्र में बारिश होने वाली है. वही यदि आप किसी उच्चे स्थान अथवा पर्वत की चोटी पर खड़े हो तो आप दूर कहि हो रही बारिश को देखकर अंदाजा लगा सकते है की बारिश निचले इलाको में करीब 10 मिनट बाद होने वाली है.

इसी प्रकार से भविष्यवक्ता कही उच्चे स्थान पर और हम नीचे हो…. सम्भावनाएं अनन्त है परन्तु जो सम्भवना निश्चित है उन्ही के आधार पर भविष्यवाणी की जाती है.

आज हम आपको हिन्दू पुराणों में वर्णित उन 7 भविष्यवाणियों के बारे में बतलायेंगे जो वास्तव में कलयुग में घट रही है.